Saturday, 27 December 2014

अंदाज़-ए-मोहब्बत / काव्यशाला an anthology

अंदाज़-ए-मोहब्बत।

मादक हो, बहुत शोख हो,
तितली से भी ज़्यादा तुम चँचल हो।

कोमल हो, बहुत मासूम हो,
ओस की बूँद से भी ज्यादा नाज़ुक हो।

यह तुम्हारे अलसाये से गेसू,
बेपरवाह हो तुम्हारे रुखसारों पर,
बलखाते है, तो कभी इतराते है।

अपनी शरारती अदाओं से,
हमें भी अक़्सर बहकाते है।

थामता हूँ जब भी तुम्हें,
वक़्त को जैसे पर लग जाते है।

सोचता हूँ रोज़ तुम्हे चूमूँ,
और मेरे इस ख्याल भर से,
ख़ुदा के भी तेवर बदल जाते है।

Monday, 22 December 2014

ख्याल-ए-इश्क / काव्यशाला an anthology

ख्याल-ए-इश्क़।

मुख़्तसर सी मुलाक़ातों का सिलसिला देखो,
कोई मेरे मुक़द्दर में अचानक से शामिल हो गया।

हम लम्हें गुज़ारते रहें उनके तस्सवुर में,
गुज़िश्ता पलों के साथ कोई मेरा हमदम हो गया।

कल तक कोई ख़्वाबों-ख़यालों में भी नही था,
आज कैसे एक पल में वह मेरा हम-साया हो गया।

अब तो डूबे हैं उनकी आशिक़ी में कुछ ऐसे,
इबादत-ए-इश्क़ में मेरा सनम ही मेरा ख़ुदा हो गया।

Friday, 19 December 2014

ज़ख्म / काव्यशाला an anthology

ज़ख्म।

लिबास पहन कर अपने ज़ख्मों को छुपा लिया,
फिर उन्ही लिबास ने मेरे ज़ख्मों को कुरेद दिया।

अब तो आदत सी बन गयी है ज़ख्मों को जीने की,
इसलिए दवा और दुआओं से खुद ही परहेज़ कर लिया।

अब रिस्ते खून और दर्द सिर्फ़ अपने से लगते है,
इसलिए पुराने ज़ख्मों को भी नासूर ही बना रहने दिया।

बेशकीमती से है मेरे ग़म और यह सारे ज़ख्म,
कुछ उधार मिले तो कुछ खरीद के रख लिया।

दुआएँ भी आती रही मरहम लगाने को हर वक़्त,
मैंने ही हर दुआ के बाद ख़ुद को काँटों में उलझा लिया।

Wednesday, 10 December 2014

...... बस तुम्हें चाहता हूँ। / काव्यशाला an anthology

……बस तुम्हें चाहता हूँ।

आज कुछ रुमनियत लिखना चाहता हूँ,
तुम्हें अपने लफ़्ज़ों में पिरोना चाहता हूँ।

ख्याल हो तुम मेरा एहसास हो तुम,
इस मोहब्बत को ताउम्र जीना चाहता हूँ।

इबादत हो तुम मेरा ख़ुदा हो तुम,
क़ल्मा बनाकर तुम्हें रोज़ पढ़ना चाहता हूँ।

मिलते है रोज़ और भी हुस्न नज़ारों में,
सिर्फ तुम्हें अपनी परछायीं बनाना चाहता हूँ।

अब आकर थाम लो मेरा हाथ उम्र भर के लिए,
जहाँ में मोहब्बत का अंदाज़ दिखाना चाहता हूँ।

Tuesday, 2 December 2014

इज़हार-ए-इश्क़ / काव्यशाला an anthology

इज़हार-ए-इश्क़।

सुनो, कुछ तुमसे कहना चाहता हूँ..
कुछ ख़ास नही, बस इश्क़ का इज़हार करना चाहता हूँ।

तुम्हे तो वैसे भी मेरे दिल की खबर है..
अब तुम्हारे दिल में अपनी धड़कनों को सुनना चाहता हूँ।

एक बार मेरे करीब आकर तो देखो..
मैं तो सिर्फ़ तुम्हे अपनी रूह बनाना चाहता हूँ।

जानता हूँ हुस्न के नाज़-ओ-नखरे होते है..
फ़िर भी अपनी आशिक़ी को आज़माना चाहता हूँ।

तुम बेशक़ अपने अंदाज़ में मेरे इश्क़ को आज़माना,
मैं तो बस अपनी इबादत का असर देखना चाहता हूँ।

Thursday, 14 August 2014

ख़याल ... कुछ यूँ भी।

ख़याल... कुछ यूँ भी।

आदतन फिर वही गलतियाँ दोहराने का ख़याल आया है,
किसी शाख़ से गिर कर किसी दिल-ए-किताब में खोने का ख़याल आया है।

खुशमिजाज़ी में इतने दिल तोड़ दिए मैंने,
आज जाने क्यूँ बेवजह रोने का ख़याल है।

जागती रातों को दिन सा गुज़ार लिया मैंने,
आज मुद्दतों बाद सोने का ख़याल आया है।

जबसे जिस्मानी रिश्तो की लिबास उतार दी है,
सिर्फ परछाइयों से लिपटने का ख़याल आया है।

देख लिया इश्क को हुस्न के चौराहे पे भटकते हुए,
इसलिए आवारगी अपनाने का ख़याल आया है।।

A Published Anthology निर्झरिका 5/5

सियासत के रँग।

सियासत की नयी राह फिर से बनने लगी है,
त्योहारों से पहले ही दीवारों की पपड़ी उतरने लगी है।

बोल-वचन ही है असली स्वराज हमारा,
करनी के वक़्त ख़ुद की पतलून खिसकने लगी है।

अब दूध-भात भी नही मानते इस खेल में,
बहरुपियों की जमात वही पुराने करतब दिखाने लगी है।

बदलते रहते है यह मौसम वक़्त-बेवक्त,
नए साज़ पर फिर वही पुरानी धुन बजने लगी है।

विकल्पों के दौर में किसे बेहतर बताएँ,
जब हर छुट के बाद हर कीमत एक सी लगने लगी है।

A Published Anthology निर्झरिका 4/5

....परिंदों की तरह।

खानाबदोश सी ज़िन्दगी में,
अपना आशियाँ बनाते हैं,
.... परिंदों की तरह।

ज़िंदा रहने की जद्दोजहद में,
रोज़ नया मुक़ाम तलाशते हैं,
.... परिंदों की तरह।

अनजानी सी राहों में,
कितनों से कई रिश्ते जुड़ जाते हैं,
.... परिंदों की तरह।

किस्मत है वक़्त के भरोसे,
फिर भी कदम आगे बढ़ाते हैं,
.... परिंदों की तरह।

नियती है ज़िन्दगी की चलने में,
फिर भी कुछ पल रुक कर रास्ता तय करते हैं,
.... परिंदों की तरह।

दुनिया उलझी है रिश्तों में,
फिर भी चह-चहा कर मिठास घोलते हैं,
.... परिंदों की तरह।

छूटते रिश्तों के सफ़र में,
ज़िन्दगी बेफ़िक्री से जिए जाते हैं,
.... परिंदों की तरह।

Saturday, 2 August 2014

तेरे बाद...

तेरे बाद...

हर चेहरा मुझे जाना पहचाना सा लगा...
कुछ यूँ हुआ एक तेरे मिलने के बाद।

ख़ुदा का नूर इतना मासूम भी होगा...
यह जाना मैंने तुझे से मिलने के बाद।

हम तो इश्क की बन्दिगी में मशगूल थे...
रूमानियत मुझ पे मुस्कुरायी तुझे छूने के बाद।

हर नज़ारा तेरे में सराबोर सा लगा...
तेरी इस जिस्म की हर महक के बाद।

मौसमों को रोज़ नए चाल में इतराते देखा...
सादगी में लिपटी इस हुस्न के बाद।

हम तो निकले थे खुदा को ढूंढने....
तलाश ख़त्म हो गयी तेरे मिलने के बाद।

चाहत...

चाहत...

हम तो बैठे थे कुछ लिखने को,
पर तेरी यादों ने मौसम-ए-इश्क को छेड़ दिया।

अभी कुछ अलफ़ाज़ ही उकेरे थे,
तेरी मौसिखी ने लफ़्ज़ों को ग़ज़ल में तब्दील कर दिया

उठ कर सोचा कहीं और दिल लगाऊँ,
तेरी खुशबु ने समां में नशा सा घोल दिया।

बैठा था तकिये के सहारे कुछ सोचने,
कमरे की हर दिवार ने तेरी शक्ल का रूप ले लिया।

अब कमरों को अँधेरा भी कर लिया था,
पर चाँदनी ने तेरे अंदाज़ में छेड़ना शुरू कर दिया।

इस चाहत का असर ख़ुदा के घर भी दिखा,
जब अचानक दुआ में मैंने तेरे नाम को पढ़ लिया।

Saturday, 26 July 2014

A Published Anthology निर्झरिका 3/5

गुमशुदा एहसास।

कुछ मेरे एहसास थे जो आज गुमशुदा से हैं,
मुझसे नाराज़ हैं या फिर तुझसे जुदा से हैं,
... बस इस बात का इल्म नही।

जो मचलते थे कभी बखूबी तेरे मिलने पर,
इतराते थे मदमस्त हो तेरी मुस्कान पर,
... अब उनकी परछाई भी नही।

वो एहसास जो मेरे जीने की वजह थे,
तेरे वादों के सहारे जो कभी मचलते थे,
... आज उनका कोई पता ही नही।

वो जज़्बातों का कारवाँ जो दूर तक चला,
कभी अकेले दौड़ा तो कभी साथ चला,
... आज उनका कोई निशाँ तक नही।

Monday, 21 July 2014

A Published Anthology निर्झरिका 2/5

इन्द्रधनुष।

कुछ गहरे से …कुछ हल्के से,
इन्द्रधनुषी… रंग से है रिश्ते।

हर रँग के तरह… अपना ही,
एक वजूद लिए… होते है रिश्ते।

प्यार और …तकरार की बारिश में,
भीग कर खिलते है …रंगीन रिश्ते।

आकाश सी …बड़ी ज़िन्दगी को भी,
रंगीन सी छटा से… खुश रखते है रिश्ते।

हल्की सी बारिश …फिर गुनगुनी धुप,
ऐसे ही एहसासों से… घिरे है रिश्ते।

एक दूजे से बंधे …जाने-अनजाने में,
रंगों में जुड़े से लगते हैे …हर रिश्ते।

चाहे करीब हो …या हो दूरियाँ,
दिलों में घर किये होते है… रिश्ते।

ज़िंदगी खत्म हो …या बढ़े दूरियाँ
अपनी अह्मिअत …जताते है रिश्ते।

Tuesday, 15 July 2014

A Published Anthology निर्झरिका 1/5

शुक्तिका प्रकाशन की हिंदी साहित्य विशेषांक "निर्झारिका" में मेरी 5 कविताओं को प्रकाशित होने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। आप लोगों के समक्ष पेश कर रहा हूँ। उम्मीद है पसंद आएगी...

वादों का जनाज़ा।

वादे...जो पुरे न हो सके,
कुछ तुमने किये तो कुछ मैंने किये थे।

वादे...जो मुक़म्मल न हो सके,
कभी वक़्त की कमी रही कभी खुद बहुत रफ़्तार में रहे।

वादे...जो वफ़ा न कर सके,
कभी रिश्तों की पैरवी थी तो कभी खुद रिश्तों से परे थे।

वादे...जो अपना वजूद न पा सके,
कभी जज़्बातों में बह गए तो कभी उनको ही भूल गए।

वादे...जो कभी अपने न हो सके,
कभी एहसासों के साथ थे तो कभी एहसास ही साथ नही थे।

वादे...जो फ़ौलाद न हो सके,
कभी खुद के लिए टूटे तो कभी किसी रिश्ते के लिए।

वादे...जो दम भर भी न जी सके,
कभी आसुओं में बहे तो कभी पन्नों पर स्याही बन बिखर गए।

Sunday, 29 June 2014

कन्या और उसके रूप...

कभी देवी हूँ इस नभ के नीचे, कभी सिर्फ स्त्री हूँ धरा पर।

बोझ हूँ मैं जिम्मेदारियों के नीचे, और एक खर्च हूँ हर परिवार पर।

कभी कमसिन हूँ कलम के नीचे, और हवस हूँ  बिस्तर पर।

बचपन गुम मेरी मज़दूरी के नीचे, क्यूँकी गरीबी है मेरे जिस्म पर।

शिक्षा बेपरवाह है ज़रूरत के नीचे, लेकिन रोज़गार का बोझ है मेरे सिर पर।

Wednesday, 11 June 2014

सागर किनारे....

भीगे समंदर के किनारे...
यह गीले अलसाए से रेत..
मेरे पाँव में छुपकर साथ चले आते है।

और चाँदनी की ठंडाई में...
नहाये कुछ अबरख...
खुद की शरारती चमक पर मुझे उकसाते है।

की आओ एक पहर गुज़ारो...
कम से कम समंदर को ही निहारो..
इसलिए हम अक्सर गीले रेत और अबरख का एक टीला बना लेते है।

Saturday, 17 May 2014

रँग-मँच


नेपथ्य का संवाद..

अंतर्मन सा होकर..

नाटकीय शव का प्रारूप है।

और मूक किरदार..
अपने हाव-भाव से..
रँग-मँच पर बुनता एक रूप है।

दर्शकों में बैठा हर कोई..
इस खेल को समझता..
सिर्फ़ अपने अनुरूप है।

फ़िर संवाद से लेकर..
किरदार की खूबियों तक..
खुद का टटोलता हर रूप है।

तालियाँ बज उठी..
कुर्सियाँ सरक गयी..
बस ज़िन्दगी इसी मँच के अनुरूप है।

Friday, 9 May 2014

Escalator

Escalator....

Escalator का रुख देखा,
कितना बेपरवाह और मग्न।
कदम बढ़ाऊँ तो वह भी चले,
वरना जड़वत सा वहीँ पड़े रहे।

एक दौर शुरू होता जैसे जन्म के बाद,
कुछ ऐसा चलता मेरे एक कदम के बाद।
मैं तो रुक गया आराम की लालसा में,
पर यह बढ़ रहा अपनी ही धुन में।

दोनों पहुंचे अपनी मंज़िल पर,
पर यह तो फिर चल पड़ा दो घड़ी रुक कर।
जैसे मेरा ही अस्तित्व कितना स्वार्थी सा है,
बस अपने मतलब से सरोकार रखता है।

Monday, 5 May 2014

हमें तो लुट लिया मिलके हुस्न वालों ने

This has been written modifying the Original Qawaali Lyric "Humein To Loot Liya Milke Husn Walon Ne".
Since I don't see much Qawaali Lyric in movies, so I have tried to pen it as per my own thoughts and understanding. Hope you would find it interesting & entertaining.



हमें तो लुट लिया मिलके हुस्न वालों ने ..  काले काले बालों ने गोरे गोरे गालों ने .... 


कुछ अपने अंदाज़ में, कुछ अपने अलफ़ाज़ में ...
पेश-ए-खिदमत है :


हमें तो लुट लिया मिलके हुस्न वालों ने
काले काले बालों ने गोरे गोरे गालों ने

निगाहें मिला के जब वो यूँ ही शरमाये
जवां दिलों में जैसे हलचल सी मच जाये
होठों पे उनके हलकी से हंसी जब आये
न जाने कितनो के जवां दिल बहक जाये
चेहरे पे गिरी लटों में से जब झांके
उस अंदाज़ पे कोई कैसे न फ़िदा हो जाये
फिर उसी लटों को चेहरे से हटाये खुद ही
बिना कहे इठला के चल देंगे बस यूँ ही
खुदा बचाए ऐसे आलम से ...
के कई दिल लुट गए ऐसे नजारों में ...

हमें तो लुट लिया मिलके हुस्न वालों ने
काले काले बालों ने गोरे गोरे गालों ने।।

खनकाते हैं अपनी चूडियो को बस यूँही
ताकि नज़र मिलाने को तरसे बस हम ही
फिर अपनी गेसुओं को को खुद ही सुलझाये
ये देख के कोई आशिक कैसे काबू पाए
जो पास जाके कह दे हम हाल दिल का
वो ताउम्र ले लेंगे जवाब सोचने का
पूछती रहेंगी अपनी तारीफ़ के किस्से
जो न बोलो तो रूठ जाएँ फिर तुमसे
खुदा बचाए ऐसे आलम से ...
के कई दिल लुट गए ऐसे नजारों में ...

हमें तो लुट लिया मिलके हुस्न वालों ने
काले काले बालों ने गोरे गोरे गालों ने।।

हुस्न की पैरवी वो ही खुद करते
और इश्क को अपनी क़दमों में ही रखते
जो कह दो के जान हाज़िर है
कह देंगे आज आसमान पाने की ख्वाहिश है
आशिकों का कारवां उन्हें बड़ा पसंद होता
हर तारीफ़ पे उनका नया अंदाज़ होता
न इकरार न तो इज़हार इनका है मिलता
बस आशिकों को बेवजह इनकार है मिलता
खुदा बचाए ऐसे आलम से ...
के कई दिल लुट गए ऐसे नजारों में ...

हमें तो लुट लिया मिलके हुस्न वालों ने
काले काले बालों ने गोरे गोरे गालों ने।।

Thursday, 1 May 2014

जब तक है जान... Published Poetry

This was written long back when the movie was released. Its not the same one what you people have heard/seen in the movie. Its written by me & its close to my heart. A voice-over has also been given to these verses. Hope you all would love & appreciate. Fortunately this poetry got published in 
Dainik Jagran/lucknow/vithika/page22/monday/5may2014





उन शोख सी अदाओं में यूँ तेरा बेतरतीबी से मचल जाना,
बारिश की बूंदों को हथेली पे उछाल के यूँ तेरा चहक जाना,
तुझे ताउम्र ऐसे ही निहारता रहूँगा मैं,
जब तक है जान, जब तक है जान ....!

तेरी हलकी सी मुस्कुराहट पे आँखों का झुक जाना,
न कुछ कहते हुए भी पल्लू का उँगलियों में लिपट जाना,
तेरे ऐसे ही अनकहे जज़्बातों से जिंदा रहूँगा मैं,
जब तक है जान, जब तक है जान ....! 

उस गुस्ताख़ हवा की शैतानी से तेरी ओढ़नी का सर से सरक जाना,
इन हवाओं में तेरी महक से समां में नशा सा छा जाना,
ऐसे ही तुझे अपनी इबादत में शामिल करता रहूँगा मैं,
जब तक है जान, जब तक है जान ....!

तेरे कुछ पल के इंतज़ार में यूँ बेपरवाह हर लम्हा गुज़ारना ,
सूखे पत्तों के ढेर पे भी तेरा मखमली से एहसास को पाना,
हर ज़र्रे में इश्क का फ़लसफ़ा सजाता रहूँगा मैं ,
जब तक है जान, जब तक है जान ....!

Thursday, 24 April 2014

चुनाव - A Published Poetry

चुनाव...

आज़ाद भारत में एक व्यवस्था बनायी गयी है,
जनता अपना प्रतिनिधि खुद चुने ऐसी प्रणाली दी गयी है।

जनता का वो विश्वसनीय देश का कर्णधार है,
जिसके इशारों पर राजनीति का होता व्यापार है।

५ साल की सत्ता में ना जाने कितने दौर आते है,
जनता की हर उम्मीद उसी तरह धरे रह जाते है।

इस राजनीति के खेल में नेता आते जाते रहते है,
बस जनता हर साल मूक दर्शक का किरदार निभाते है

चुनाव के वक़्त का चुनाव भी नेता खुद तय करते है,
और जनता एकजुट मन मसोस कर सब सहते रहते है।

वादों का पुलिंदा अक्सर देखने को मिलता है,
जनता फिर भी हर साल तवज्जो दिए जाती है।

मिलीभगत से चुनाव के बहाने जेबें भरी जाती है,
और जनता हर बार चुनाव के बहाने ठगी जाती है।

बेबुनियादी मुद्दों का अक्सर माहौल बनाया जाता है,
जनता के मुश्किलों को मखौल बता दरकिनार किया जाता है।

पूंजीवादियों की सिफारिश में महंगाई घर आती है,
और आम जनता की खुशियाँ आँसुओं में बह जाती है।

चुनाव में चुनने का सवाल बस सवाल बनी रह जाती है
और जनता की किस्मत किसी सिरफिरे के हाथ लग जाती है

आज प्रजातंत्र में सत्तारूढ़ अपना शासन चलाते है
और प्रजा अपने को शोषित होते देख जिए जाते है।

यह चुनाव का अभिप्राय कुछ धुंधला सा है,
सच में यह पारदर्शिता की खाल में स्वार्थ का साधन सा है।

Sunday, 6 April 2014

क्षितिज वाला मुक़ाम

क्षितिज वाला मुक़ाम।

वह जो क्षितिज है..धुँधला सा..
मुझे वहीँ पहुँचना है..
यह देखने के लिए की..
मुझे वहाँ से भी यह धुँधला लगता है..
या फिर किसी को मैं भी धुँधला दिखता हूँ।

यह जो खुला सफ़र है..इसे सीना है,
यह जो गुज़रा दौर है..इसे जीना है,
यह जो नयी तड़प है..इसे पीना है।

इससे पहले कि सूरज की रौशनी,
अँधेरों में कहीं गुम हो जाए..
इस भोर को मुझे,
सुबह होने से पहले देखना है।

मैं भी तो देखूँ ज़रा..
इस बेपरवाह वक़्त की रफ़्तार।

फ़िर चाहे कोशिशों की गर्मी मुझे झुलसाए..
या क़िस्मत की पुरवाई मुझे सताए..
अब इस क्षितिज वाले मुक़ाम से..
निश्चित रूबरू होना है।।

Thursday, 27 March 2014

धर्म और इंसानियत। - Published Poetry

धर्म और इंसानियत।

धर्म का जन्म पहले हुआ या इंसानियत पहले आयी,
कुछ इसी उलझन में आज की सामाजिक व्यवस्था है बिगड़ गयी।
धर्म के नाम पर इन्सान आडम्बर से बाझ नही आते,
और अपनी ही इंसानियत को बेशर्मी से सरेआम है बेच खाते।
धर्म की आड़ में अपने समाज में कितने कुकर्म हो रहे है,
और इंसान अपनी ही बिरादरी में दिनोंदिन धूमिल हो रहे है।


इन्सान खुद तो बँट गया ना जाने कितने वर्गों में,
और भगवान को भी बाँट लिया अपने अनुसार धर्मों में।
बस उपदेश भर है की इश्वर एक है,
दरअसल में विडम्बना यह है कि इंसान अनेक है।
पल भर में पत्थर और शुन्य को सब कुछ मान लेते है,
लेकिन इंसानियत के वक़्त जाति और धर्म पहले गिने जाते है।
ख़ुदा ने दुनिया में इंसान बनाया कुछ सोचकर,
और इंसानों ने दुनिया बदल दी धर्मों के नाम पर।


आज भाईचारा किताबों में सिमट गयी है,
सिर्फ ग्रंथों की लड़ाई सर्वोपरि हो गयी है।
खून का रंग भले सबका सुर्ख होता है,
लेकिन उसका अस्तित्व घायल जिस्म से होता है।
जहाँ धर्म ने आपसी सौहार्द के बजाय नफरत को जन्म दिया है,
वहीँ इंसान ने धर्म को विभित्स बना उसे कलंकित कर दिया है।


This is a published poetry, so you can refer below link also:

http://prabhatpunj.inprabhat.com/sahityasamvad/%E0%A4%A7%E0%A4%B0%E0%A5%8D%E0%A4%AE-%E0%A4%94%E0%A4%B0-%E0%A4%87%E0%A4%82%E0%A4%B8%E0%A4%BE%E0%A4%A8%E0%A4%BF%E0%A4%AF%E0%A4%A4-%E0%A5%A4.html

Sunday, 16 March 2014

मेरे होली के रँग।

रँगों के महफ़िल में हम क्या तेरा ज़िक्र करें,
जब हर ज़र्रे में मुझे बस तेरा ही अक़्स दिखा।

कभी सुनहली गेसुओं से तूने समां में रँग बिखेरा,
तो कभी अपने कत्थई आँखों का जाम उड़ेला।

तेरे गुलाबी गालों पर दमकती धुप की क्या बात करें,
जब लाल रँग का वजूद सिर्फ़ तेरे लबों से निखरा।

क्यूँ न होली के बहाने इस बार फिर नया रंग घोलें,
मुझे तो हर रँग का फ़लसफ़ा बस तुझसे ही मिला।

Saturday, 15 March 2014

रिश्ते...

रिश्ते।

ख़ुदा की बनायी दुनिया में,
लोगों का लगा हुआ हुजूम है,
जहाँ जाने-अनजाने में,
ना जाने कितने रिश्ते बन जाते है।

कभी अनजानों की शक्ल लिए,
कोई परिचित से मिल जाते है,
तो कभी अपने ही अपना रंग बदले,
बेगानों की क़तार मे नज़र आते है।

संसार में इंसान के पैदा होते ही,
रिश्तों के मज़हब घर कर जाते है,
और फिर इन्ही रिश्तों की गिरफ्त में,
ख़ुद की साँसों के कर्ज़दार हो जाते है।

कभी भावनाओं की बेपरवाही में,
रिश्तों के वास्ते गिनाये जाते है,
तो कभी इन्ही रिश्तों की आड़ में,
स्वार्थ सिद्धि के उपाय बनाये जाते है।

ताउम्र मतलबी रिश्तों के पुलिंदें में,
इन्सान लगातार गोते लगाता रहता है,
दूसरों को खुश करने क चक्कर में,
खुद के वजूद की हत्या करता जाता है।

जज़्बातों के कठघरे में,
रिश्तों की पैरवी चलती रहती है,
इच्छाओं की इतराते क़दमों में,
उसूलों की बेड़ियाँ डाली जाती है।

अपने जन्म से लेकर मरने में,
इंसान एक सफ़र तय कर जाता है,
लेकिन रिश्तों की होड़ में,
खुद को सवालों से घिरा पाता है।

इस ज़िन्दगी के बड़े सफ़र में,
सभी रिश्ते अपनी अह्मिअत जताते है,
कभी समूह तो कभी तन्हाई में,
हर पहचान का कारोबार किये जाते है।

Sunday, 9 March 2014

एक आइना पारदर्शी सा...।

एक आइना पारदर्शी सा..।

एक आइना जो पारदर्शी सा है,
मेरे ही सामने लगा रहता है,
बुत सा मैं खुद उसे देखता हूँ,
हरकतें उसमें मेरा अक़्स करता है।

सामने जब मैं खुद हूँ इसके,
तो फ़िर आईने में कौन दिखता है,
जो मेरा ही प्रतिबिम्ब बनकर,
न जाने किसकी नक़्ल करता है।

छू भी नही सकता उसे,
कुछ कह भी नही सकता उससे,
फ़िर क्यूँ सिर्फ यह अक़्स,
हरपल मेरे ही रूबरू रहता है।

आइना तो सच बोलता है जब,
फ़िर मुझसे कुछ क्यूँ नही कहता है,
आइना तोड़ कर खत्म तो कर दूँ सब,
पर टुकड़ों में मेरा ही अक़्स रहता है।

Wednesday, 5 March 2014

ऐसा है इश्क़...।

ऐसा है इश्क़...।

अच्छा मुकाम आया है अब अपने इश्क़ में,
आज यार हुआ है ख़ुदा अपने यार के इश्क़ में।

एक गुलिस्ताँ सा बना लिया है इर्द-गिर्द अपने,
इस क़दर शामिल है ज़िन्दगी में महबूब अपने,
तमाम फिज़ा जैसे डूबी हो रँग-ए-इश्क़ में,
आज यार हुआ है ख़ुदा अपने यार के इश्क़ में।

चिलमन-ए-हुस्न से उसने आज,
आफ़ताबी सा किया है मेरा जहाँ आज,
मिल गयी हो जैसे कायनात मुझे इश्क़ में,
आज यार हुआ है ख़ुदा अपने यार के इश्क़ में।

नाज़ तो उनके ख़ुदा ने भी खूब उठाये होंगे,
सितारों ने भी न जाने कितने किस्से सुनाये होंगे,
हम तो मशगुल रहते है उनके इबादत-ए-इश्क में,
आज यार हुआ है ख़ुदा अपने यार के इश्क़ में।

Sunday, 2 March 2014

तेरी काशिश...

तेरी गली का रास्ता कुछ ऐसा है की बेवजह कदम चले जाते है,
हम बेपरवाही में बढे जाते है और तेरे दरवाज़े पर ठहर जाते है।

तुमसे मिलना किस्मत था फ़िर हर मुलाक़ात ज़िन्दगी बन गयी,
अब तुम खुद देखो कैसे तुम्हारी तलब मेरी बंदिगी बन गयी।

हर मौसम का मज़ा दोगुना हो जाता है जब तुम मेरे होठों पर खिलती हो,
तमाम खुशियाँ अंगड़ाई लेती है जब तुम मेरे बाँहों में मचलती हो।

Wednesday, 26 February 2014

कलम और स्याही....

कलम और स्याही....

सोच की कलम और जज्बातों की स्याही से,
कभी पन्नों पर एहसासों का इन्द्रधनुष खिलता था।

कभी लिख कर तो कभी चित्रित कर,
हर रंग का किस्सा उन पन्नों पर उकेरता था।

अब वही स्याही कुछ ग़मज़दा सी हो गयी,
जिससे कभी मोहब्बत के अफ़साने लिखते थे।

अब उस कलम की भी हिम्मत टूट गयी,
जिससे कभी रूमानियत का समां बुनते थे।

आख़िरकार कलम ने पूछा स्याही से,
क्या हमारे रिश्ते का यही वजूद लिखा था।

स्याही ने आह भरकर जवाब में कहा,
पन्नों पर बिखरे रिश्तों का यही मंज़र होना था।

Saturday, 22 February 2014

Published Poetry: कानून की आँखों पे पट्टी कब तक ?

कानून की आँखों पे पट्टी कब तक ?
```````````````````````````````````````
मतलबपरस्त सी इस दुनिया में, 
पक्षपात से परे रहने के लिए,
गांधारी की तरह तुमने भी अपनी आँखों पे पट्टी बाँध लिया...!
और कौरवों की तरह तुम्हारे ही लोगों ने, 
न्याय की व्यवस्था को पेशा बना,
न्यायप्रणाली को सरेआम तुम्हारे ही समाज में बेच दिया...!
तुम्हारा ही कहना था कि सही न्याय के लिए, 
सबूतों को न्याय की तराजू में तौल कर,
किसी के लिए तभी सही ग़लत का फैसला किया जायेगा...!
अब तुम्हारे फैसले का क्या वजूद है, 
जब हर जिरह और सुनवाई से पहले ही,
खरीद-फरोख्त से हर गवाह और फैसला भी तय हो जायेगा....!
ये तुम कौन सा न्याय करना चाहती हो, 
हर वक़्त आँखों पे पट्टी बाँध कर,
यहाँ तो रिश्वत पे जुर्म भी आसानी से होती है रिहा...!
बहुत हुआ अब उतार भी फेंको ये पट्टी,
अब समय हुआ है यथार्थ में आ जाओ,
संशोधन का नाटक ख़त्म करो और अब अपनी रफ़्तार बढाओ ...!
गर अब न सुधारी अपनी न्याय व्यवस्था,
तो फिर एक क्रान्ति का दौर होगा,
जहां हर इंसान न्यायालय को भूल खुद ही सड़क पर फैसला कर रहा होगा...!

Sunday, 16 February 2014

Published Poetry: प्रदूषित इंसानियत

Here I have one more published poetry stating about on social issues. This was written keeping on mind about global warming and at the same time I have tried to speak on human behavior. With an overall gradual development across the world, somehow we are losing the charm of human nature. We are in so rush that we no longer care for our own people. Nowadays relationships don't last long, people suffers from various kind diseases which are not easily curable. For the sake of surviving in this world, we are actually killing ourselves and heading towards a bleak and unknown world.
Please do read & give your comments...



Pic Courtesy : Clicked from Magazine


प्रदूषित इंसानियत 

प्रदूषित हो रहा पर्यावरण,
इंसानियत को कुदरत से कैसे यह रंजिश है। 
बेहताशा पेड़ों को काट कर,
अब बस्ती नयी ज़िन्दगी है। 
इस्पाती रसायनों की बाढ़ में,
पानी को तरसती ज़िन्दगी है। 
गतिशील उन्नति की राह में,
बीमारियों में लिपटी ज़िन्दगी है। 
रफ़्तार की पकड़ में,
सड़कों पर भागती ज़िन्दगी है। 
मतलबपरस्ती कि झुण्ड में,
उलझी रिश्तों कि ज़िन्दगी है। 
किसे दोष दें इस प्रदिशन के लिए ?
क्या करें इसे दूर करने के लिए ?
क्यूँ इंसान अपना अस्तित्व  मिटा रहा है ?
आज के लिए अपना कल क्यूँ बिगाड़ रहा है ?
आओ धरती पर भी एक नया स्वर्ग बनाएँ,
धूमिल होती इंसानियत को फ़ौरन बचाएँ।

So, I believe I have not done anything towards "Preaching" because am not good in that. But yes, as being human I do care about my surroundings. I am also trying to contribute in such a way so that we could see a better and healthy environment. If we all work towards any common cause, definitely a change would take place... Lets try a bit...

Be Happy n Be Blessed! :)

Wednesday, 12 February 2014

Published Poetry : ...यह अपनी आज़ादी।

This was written on the occasion of Independence Day & this Poetry is one of my published poetry. In this poetry, I have tried to say that since we are now Independent, we should be very alert to maintain it. We achieved our freedom after lot of struggle so we should see that Freedom should be treated as an opportunity to suppress weaker one or it should not be used for any inhuman practices..
Pls do read & give your comments...


...यह अपनी आज़ादी।
सब मुक्त हैं और अब नहीं कोई किसी पर निर्भर,
हम सब हैं आज़ाद और हमारी है यह अपनी आज़ादी ..!
जीने के लिए पहले जैसे मोहताज नहीं,
अपने दम पर हासिल की है यह आज़ादी ..!
१९४७ से शुरू हुआ था यह सफ़र,
आज ६६वें पायदान पर खड़ी है यह आज़ादी ..!
हर दौर से जुझती और उबरती,
कई संघर्षमयी पलों से गुज़री है यह आज़ादी ..!
अब जब सब स्वाधीन और स्वछन्द है,
फिर क्यूँ अब उदंड सी लगने लगी है यह आज़ादी ..!
अब बेलगाम और अनुशासनहीन सी इंसानियत,
मत्लब्परस्ति में हमबिस्तर हो गयी है यह आज़ादी ..!
लोभ-क्षोभ और राग-द्वेष में लिप्त समाज ,
किसी के हक़ को छिनना ही बन बन गयी है यह आज़ादी ..!
मिलीभगत से बिना मापदंड के व्यवयसायिक दौर में,
खुद के खोदे हुए अंधे कुएँ की तरफ बढ़ रही है यह आज़ादी ..!
खुलेआम अंधे कानून पर रिश्वत की चादर डाल,
भ्रष्ट सी सरकार खोखला सा साबित कर रही यह आज़ादी ..!
अब अगर नहीं सजग हुए ,
तो फिर कहीं इतिहास न बन जाये यह आज़ादी ..!
एकजुट हो नया बलाव लाना चाहिए,
तभी सलामत रहकर कुछ रंग खिलाएगी यह आज़ादी ..!


Its only we people who have to work towards a better India..so Lets be united & be Indian..!

Be Blessed & Be Happy :) 

Thursday, 6 February 2014

Life's First Published Poetry : दुनियादारी

This Poetry is really close to my heart as its the 1st Poetry which was published. This was written with lot of thoughts and speculations because it was not easy for me. Often, I used to write on Romance/Love but when a close buddy asked to try something different, it clicked to my mind & I decided to give a try..
So here it is..you might find lot of mistakes or grammatical errors..for which I apologize...after all it was first time :p 

Pic Courtesy : Clicked from Magazine

दुनियादारी :


दरियादिली-ए-क़वायद देखिये ,
या तो लुट जाते हैं ..
या तो लूट जाते हैं ..
भरोसा-ए-अहतियात कितना करे ,
जब वक़्त से पहले इंसान बदल जाते हैं ...! 

दौर-ए-हुजुम का चलन देखिये ,
कभी अपने से मिल जाते हैं ..
कभी अपने ही मिल जाते हैं ..
जज़्बात-ए-मियाद को क्या परखें ,
जब हालात से पहले खयालात बदल जाते हैं ...!
जनाज़ा-ए-दस्तूर देखिये ,
कभी साथ चले जाते हैं ..
कभी साथ चले आते हैं ..
पाबन्द-ए-ज़िन्दगी का मज़मा क्या कहें ,
जब मेरी मौत से पहले ही अपने बदल जाते हैं ...!
क़त्ल-ए-गाह ये ज़िन्दगी देखिये ,
कुछ खुद के लिए मर जाते हैं ..
कुछ खुद के लिए मारे जाते हैं ..
तमाशबीन-ए-जहां की क्या बात कहें ,
जब हर अक्स कभी किसी मुर्दों में बदल जाते है ....!
Pic Courtesy : Google


This Poetry is all about Worldliness.. how human life is & how they behave in daily life..how time/situation affects & how human behavior changes..actions/reactions..kindliness/humanity...reality/show-off...truthfulness/fake...
Everything was tried to capture...don't know how far I was correct...
Hope you must have liked...

Be Happy & Be Blessed! :)

About Me

My photo
India
Complicated माहौल में simple सा बंदा हूँ। दूरियाँ तो जायज़ है फिर भी ऐसे हमेशा करीब हूँ। कुछ लिख कर, कुछ पढ़कर, सबसे कुछ सीख कर, अकेला ही सही, एक मंज़िल के लिए निकला हूँ।