Saturday, 28 November 2015

Lyrics: रात सी ज़िन्दगी।

रात सी ज़िन्दगी।
Ek shaam se judaa ho chukaa..
Ab ek bhor se bichhadna hai..
In faaslon mein khokar khud ko...
Mujhe Gumshuda raat sa guzarna hai...

एक शाम से जुदा हो चुका..
अब एक भोर से बिछड़ना है..
इन फासलों में खोकर खुद को...
मुझे गुमशुदा रात सा गुज़रना है..!

Taaron ki tanahayion mein..
Chaand ke fareb mein..
Jugnon ki beparwahi ke saath..
Mujhe tanhaa raat sa guzarna hai..

तारों की तन्हाईयों में..
चाँद के फरेब में..
जुगनुओं की बेपरवाही के साथ..
मुझे तन्हा रात सा गुज़रना है..

Shaakhon ki kaanaafusi hai..
Sard hawaon mein Chaaplusi hai...
Shama jal na jaaye kahin..
Mujhe Thithurte waqt sa guzarna hai..

शाखों की कानाफूसी है..
सर्द हवाओं में चापलूसी है..
शमा जल न जाए कहीं..
मुझे ठिठुरते वक़्त सा गुज़रना है..!!

©Abhilekh

Thursday, 5 November 2015

Lyrics: कारवाँ / Karwaan

कारवाँ
Ek karwaan tha jo guzar gaya,
Mera hamsafar tanha guzar gaya..
Kaha tha usne intezaar ke liye,
Aur intezar bewaqt guzar gaya..

एक कारवाँ था जो गुज़र गया,
मेरा हमसफ़र तन्हा गुज़र गया..
कहा था उसने इंतज़ार के लिए,
और इंतज़ार बे-वक़्त गुज़र गया..

Kaha tha chalenge saath har pal,
Waqt ke bahane har ehsaas guzar gaya..
Ab har hulchal mein hai khaamoshi,
Bas us tanhai ka safar guzar gaya..

कहा था चलेंगे साथ हर पल,
वक़्त के बहाने हर एहसास गुज़र गया..
अब हर हलचल में है खामोशी,
बस उस तन्हाई का सफ़र गुज़र गया..

Chhoo kar guzarti hai teri khusbu,
Jaise teri yaadon ka mausam guzar gaya..
Ab ek karwaan nikla hai fir se,
Ya mai hi khada raha aur sara jahaan guzar gaya...!!

छू कर गुज़रती है तेरी खुशबु,
जैसे तेरी यादों का मौसम गुज़र गया..
अब एक कारवाँ निकला है फिर से,
या मैं ही खड़ा रहा और सारा जहाँ गुज़र गया..!!

©Abhilekh

Saturday, 24 October 2015

Jalwa....

Jalwaa
Tanhaaiyon mein jo simtaa thaa ishq,
Teri berukhi ki ibaadat ka kamaal thaa..

Kutartaa thaa khud ke ehsaason ko,
Sangdili kaa fir bhi mujhse misaal thaa..

Mai gumshudaa rahaa labon ki giraft mein,
Thi Maayusi yateem aisa mera jalaal thaa..

Tu de tohmaton ki duaayen behisaab,
Zindagi kyu chand rahi yahi malaal thaa..

©Abhilekh

Friday, 16 October 2015

बदलते वक़्त...

आज ज़माने में हर किसी के अंदाज़ बदले हैं..
कोई नज़र-अंदाज़ है तो कोई मसरूफ़ियत में बदले हैं..

सब अपनी अहमियत से बखूबी वाकिफ़ हैं..
इस मिजाज़ में सब एक दूजे से मिले बगैर बदले हैं..

इंसान हूँ और तमाम जद्दोजहद है ज़हन में..
इस खुमारी में हर किसी के तेवर बदले हैं..

2 घडी बेवफ़ाई को तू भी आज़मा ले ऐ साक़ी..
यहाँ तो हमराज़ ने भी कई बिस्तर बदले हैं...!!

Aaj zamaane mein har kisi ke andaaz badle hain..
Koi nazar-andaaz hain to koi masrufiyat mein badle hain..

Sab apni ahmiat se bakhubi waaqif hain..
Is mijaaz mein sab ek duje se mile bagair badle hain..

Insaan hun aur tamaam jaddojahad hai zehan mein..
Is khumaari mein har kisi ke tevar badle hain..

2 ghadi bewafayi ko tu bhi aazmaa le ae saaqi..
Yahaan to humraaz ne bhi kai bistar badle hain..!

#Abhilekh

Tuesday, 13 October 2015

एक सफ़र।

एक सफ़र।

निकली जो सड़क पता नहीं किस ओर की थी..
मंज़िल क्या पता, पता नहीं किस छोर की थी..

भटकते से कंकड़ उनपे कुछ निखरे थे..
और ज़िन्दगी लड़खड़ायी अचानक एक भोर सी थी..

न रास्ते ख़त्म होने थे न आगे रुकना था..
फिर भी ज़िन्दगी की नब्ज़ किसी डोर सी थी..

बढ़ते कदम को घाव और नर्म एहसास भी मिले..
लेकिन मेरे हौसले का शोर पुरे ज़ोर की थी..

वक़्त आज़माता रहा मुझे के मेरी उम्र कम थी..
और मेरी किस्मत किसी ख़ुशक़िस्मत चोर सी थी..!!

Nikali jo sadak pata nahi kis oar ki thi..
Manzil kya pata, pata nahi kis chhor ki thi..

Bhatakte se kankad unpe kuchh nikhre the..
Aur zindagi ladkhadayi achanak ek bhor si thi..

Na raaste khatm hone the na aage rukna tha..
Fir bhi zindagi ki nabz kisi dor si thi..

Badhte kadam ko ghaaw aur narm ehsaas bhi mile..
Lekin mere hausle ka shor pure zor ki thi..

Waqt aazmaata raha mujhe ke meri umra kam thi..
Aur meri kismat kisi khushkismat chor si thi..!!

#Abhilekh

Saturday, 10 October 2015

Pre tuned Lyric: हम तुम!

हम तुम..!

Kuch tum socho kuch hum soche,
Fir khushi ka mausam aaye..
Rahna nahi ab kahin bhi tere bin,
Duri aao milke bhulaaye..
In duriyon ko aao sajaa den.
Chhu ke labon ko sabkuch bhulaa den..
Aur iss bahane..
Ek apna jahaan banaayen..!!
Tum se hai.. tum mein hai..
Mai aur meri ye dunia..
Tum saath rahna, harpal mere..
Fir kya hai ye dunia..
Rumaani tum, Rumaani hum..
Aur hosh apne gum ho jaayen..
Mausam ko aao thoda  bahkaayen..
Apne rang mein jahaan ko bhulaayen..
In duriyon ko aao sajaa den.
Chhu ke labon ko sabkuch bhulaa den
Aur iss bahane..
Ek apna jahaan banaayen..!!

कुछ तुम सोचो, कुछ हम सोचें, 
फिर ख़ुशी का मौसम आए..!
रहना नहीं अब कहीं भी तेरे बिन,
दुरी आओ मिल के भुलाएँ..!
इन दूरियों को, आओ सजा दें..
छु के लबों को, सब कुछ भुला दें.. और इस बहाने,
एक अपना जहाँ बनाएँ..!!
तुम से है, तुम में है..
मैं और मेरी ये दुनिया..!
तुम साथ रहना, हर पल मेरे..
फिर क्या है ये दुनिया..!
रूमानी तुम, रूमानी हम..
और होश अपने, गुम हो जाएँ..!
मौसम को आओ थोड़ा बहकाएँ,
अपने रँग में जहाँ को भुलाएँ..
इन दूरियों को, आओ सजा दें..
छु के लबों को, सब कुछ भुला दें...और इस बहाने,
एक अपना जहाँ बनाएँ..!!
©Abhilekh

This song is based on Sonu Nigam's album song with same title.

Thursday, 8 October 2015

Lyrics: ज़िन्दगी सी तुम....!!

ज़िन्दगी सी तुम...
Milo tum aksar kuch alag andaaz se..
Ya to zindagi ban ke. Ya manzil ban ke.
Milkar fir thahar jao alag andaaz se..
Ya to manzar ban ke. Ya lamha ban ke.

मिलो तुम अक्सर कुछ अलग अंदाज़ से..
या तो ज़िन्दगी बन के, या मंज़िल बन के..!
मिलकर फिर ठहर जाओ अलग अंदाज़ से..
या तो मंज़र बन के, या लम्हा बन के..!!

Zindagi ban gayi to manzil bhi mil jayegi..
Tere saath bitaaye lamhe..
Khud misaal-e-manzar kahlaayegi..!
Tum bikharna bhi to mujhpe hi bikharna..
Ya to libaas ban ke. Ya jism ban ke.
Aur simatnaa bhi mujhme befikar hokar..
Ya to rooh ban ke. Ya saans ban ke.

ज़िन्दगी बन गयी तो मंज़िल भी मिल जायेगी..
तेरे साथ बिताये लम्हे,
खुद मिसाल-ए-मंज़र कहलाएगी..!
तुम बिखरना भी तो मुझपे ही बिखरना..
या तो लिबास बन के, या जिस्म बन के..!
और सिमटना भी मुझमे बेफिक्र होकर..
या तो रूह बन के, या साँस बन के..!!

Tere tasawuur mein guzra har waqt kamyaab  hai.
Kis lafz mein tujhe bayaan karun..
Tera naam to har dua se naayaab hai..!
Ab apni but-parasti se mujhe azaad karo..
Ya to khudaa ban ke. Ya to ham-saya ban ke.
Ek aadat si meri zindagi mein shaamil ho jao..
Ya to alfaaz ban ke. Ya koi dua ban ke..!

तेरे तस्सवुर में गुज़रा हर वक़्त कामयाब है..
किस लफ्ज़ में तुझे बयाँ करूँ,
तेरा नाम तो हर दुआ से नायाब है..!
अब अपनी बुत-परस्ती से मुझे आज़ाद करो..
या तो खुदा बन के, या तो हम-साया बन के..!
एक आदत सी मेरी ज़िन्दगी में शामिल हो जाओ..
या तो अल्फ़ाज़ बन के, या कोई दुआ बन के..!!

©Abhilekh

Wednesday, 7 October 2015

Lyrics: एक बूँद रुमानियत की...!!

Bhigi zulf se wo bhiga ehsaas tapka hai..
Gardan ko chumte huye teri peeth pe bikhra hai..
Bhigo ke tere ang aur libaas ko..
Mere hi imaan mein sharaarat ko ghola hai..!

Hataa dun libaas ya chum lun us boond ko..
Ya chum kar tumhe jala dun us boond ko..
Bagawaat ki raah pe wo qaafir,
Badi besharmi se teri kamar ko oar pighla hai..!

Apni harkaton ko aaj tum thahar jaane do..
Is nasheman ko aaj wahin sawanr jaane do..
Karib aakar gunaahon ke bahaane,
Us qatre mein aaj maine rumaaniyat ko ghola hai..!

भीगी ज़ुल्फ़ से वो भीगा एहसास है..
गर्दन को चूमते हुए तेरी पीठ पे बिखरा है..
भिगो के तेरे अँग और लिबास को,
मेरे ही ईमान में शरारत को घोला है..!

हटा दूँ लिबास या चूम लूँ उस बूँद को..
या चूम कर तुम्हे, जला दूँ उस बूँद को..
बगावत की राह पे वो क़ाफ़िर,
बड़ी बेशर्मी से तेरी कमर की ओर पिघला है..!

अपनी हरकतों को आज तुम ठहर जाने दो..
इस नशेमन को आज, वहीँ सवँर जाने दो..
करीब आकर गुनाहों के बहाने,
उस कतरे में आज मैंने रुमानियत को घोला है..!

©Abhilekh
#Abhilekh

Tuesday, 6 October 2015

Pre tuned Lyric... इश्क़ क्या है...

Try this on song's tune: Khubsurat hai wo itna.. Movie: Rog.
Ishq kya marz hai aur kyu hai..
Kaha nahi jata..
Qaid mein iske kyu sab hain..
Kaha nahi jata..
Ishq fitur hai ye jaante hain ham lekin..
Bina uljhe isse raha nahi jata..!
Wo jo gum hokar bhi hai mujhme..
Kyu wo dikhta nahi..
Har khayaalon mein wo gusum hai..
Kuch kyu kahta nahi..
Kore kaagaz pe bhi likh ke, kaha nhi jata..
Aur bina lik'khe is dil ko, raha nahi jata..!!

इश्क़ क्या मर्ज़ है और क्यूँ है.. कहा नहीं जाता...
क़ैद में इसके क्यूँ सब है.. कहा नहीं जाता...
इश्क़ फितूर है ये जानते हैं हम लेकिन..
बिना उलझे इस से रहा नहीं जाता..!
वो जो गुम होकर भी है मुझमें..क्यूँ वो दिखता नहीं..
हर ख्यालों में वो गुमसुम है.. कुछ क्यूँ कहता नहीं..
कोरे कागज़ पे भी लिख के, कहा नहीं जाता..
और बिना लिखे इस दिल को, रहा नहीं जाता..!!
#Abhilekh

Saturday, 3 October 2015

Lyrics: रुमानियत!!

तू घुल चुकी थी साँसों में..
और मैं तुझपे सराबोर था...

शबनमी जिस्म थी तर-ब-तर..
और रुमानियत का आलम पुरज़ोर था...!

मैं पीता रहा तुझे क़तरा क़तरा..
तेरी हर घूँट में दबा सा शोर था...
जिस्म की सर्द रातें लिपटी रही..
साँसों की गर्मी से रागों में एक भोर था...!

तू पिघल कर बिस्तर सी रही..
और मैं तुझ में गुमशुदा हर ओर था...
अंगड़ाई की पहली पहर ली तुमने..
और लबों में ज़िन्दगी दबाये मोहब्बत मेरी ओर था।

©Abhilekh
#Abhilekh

Wednesday, 30 September 2015

Lyrics: Tera Hona Chaahta Hun...!!

Tere saath us manzar ko jinaa chahata hun...
Na Koi lamha, na koi mauka...
puri zindagi chahta hun..!

Tu lipat ja mujhse ya ghul ja mujhme..
Na koi katra, na samandar....
tujhe pura pina chahta hun..!

Hai waqt bahut lekin zindagi kam...
Na koi rishta na silsila...
tujhme khud ko khona chahta hun..!

Mohabbat hai aur qayaamat tak rahegi..
Na koi rang na koi zarra...
tujhko apna jahaan banaana chahta hun..!

Kisi but ka mai aadi qatai nahi...
Na koi jism na koi rooh...
Fir bhi apni duaon mein,
Tujhe padhna chahta hun...!!

©Abhilekh
#Abhilekh

Friday, 12 June 2015

4 // गूँज an anthology

4

4 पल की ज़िन्दगी का सफ़र,
4 पैरों की चारपाई से शुरू होती है...
और, 4 काँधों पर ख़त्म होती है।

4 कोनों से बनी यह दुनिया,
4 दीवारों में सिमटी होती है...
और, 4 इंसानों के बीच बँटी होती है।

4 पल की ज़िन्दगी में,
4 ख़याल बेचैन करते है..
क्यूँकी, 4 रिश्तों में ज़िन्दगी उलझी होती है।

4 धर्म के आडम्बर में
4 दुनिया उलझी पड़ी है...
क्यूँकी, 4 इंसानों  में एक लहू की कमी होती है।

अगर यह गिनती बढ़ भी जाए तो क्या होगा..
और अगर कम भी हो जाये तो क्या बदलेगा..
.... सिर्फ एक नया कोलाहल ही होगा।।

#Abhilekh

Thursday, 11 June 2015

Smartphone // गूँज an anthology

Smartphone

Smartphone सी आदतें इंसान की हो गयी,
एक ऊँगली की कुरेद से कितनी परतें खुल गयी।

Apps की गलियों में गुम है कितने ख़याल,
बेवजह रिश्तों की अहमियत परतों में गुम हो गयी।

वक़्त सा बेपरवाह है animated wallpaper,
फिर भी निरंतरता में उसकी दुनिया है सिमट गयी।

हाथों में पूरा जहाँ लिए घूमता हूँ अकेला,
Chat apps की व्यस्तता मेरी ज़िन्दगी हो गयी।

अब हर मौके पर रिश्ते अपनी नीयत बदलते है,
क्यूँकी Updated version की सबको लत लग गयी।

जहाँ का शोर अब मुझे क़तई नही काटता,
क्यूँकी mp3/avi से दुनिया मेरी रंगीन हो गयी।

हर smartphone का अपना ही दौर है,
क्यूँकी इंसानों की औक़ात अब हाथों में आ गयी।

#abhilekh

Tuesday, 9 June 2015

ख़ामोशी // गूँज an anthology

ख़ामोशी।

कुछ बुतों में रूह को डालकर,
ख़ुदा ने जहाँ में इंसान को बना दिया।
लेकिन बदलते वक़्त में...
इंसान ने लिबास को पहचान बना लिया।
शायद इसलिए... रूह तो वही रह गयी,
लेकिन इंसानियत की रँगत बदल गयी।

अब बिन कपड़ों के वह बेशर्म है,
और कपड़ों में ढकी पूरी शर्म है।
अब फ़रेब भी करें तो कपड़े बदल लें...
और खून भी करें तो फ़ौरन उसे धो लें।
आज ख़ुदा... ख़ुद से शर्मसार है,
क्यूँकी उसकी ही बनायी दुनिया तार-तार है।

ख़ुदा की दुहाई अब बाज़ार में खुला धंधा है,
क्यूँकी इंसान बिन समझे अब धर्म में अँधा है।
कब्रिस्तान के सन्नाटों में भी...
इंसानों का ही शोरगुल सुनता हूँ।
एक लम्बी ख़ामोशी के लिए...अब,
ख़ुदा से एक जलज़ले की दुआ करता हूँ।

#abhilekh

Friday, 29 May 2015

कोशिश की ज़िन्दगी // गूँज an anthology

कोशिश की ज़िन्दगी।

एहसासों की करवट के साथ,
जैसे-जैसे ख़्वाबों की रात बीत रही थी,
उसी रफ़्तार से जज़्बातों की सहर...
अपने पँख फैला रही थी।

और अगले पल किसी ने दस्तक दी,
बोझिल आँखों से बेपरवाह चादर को हटाया,
ज्यों ही अरमानों का दरवाज़ा खोला,
तो सामने उम्मीद मुस्कुरा रही थी।

इससे पहले कि मैं कुछ बोलता,
उसने कहा निकलो इस चारदीवारी से बाहर,
देखो वक़्त कितना गुज़र गया,
इसलिए आज तुम्हे मेरे साथ चलना है।

मैंने कहा एक शाम वक़्त से इश्क फरमा लूँ,
तो बेशक तुम्हारे साथ चलता हूँ।

उम्मीद ने मुस्कुराते हुए कहा,
वक़्त से न खेलो वह तो जालसाज़ है,
तुम उसके तस्सवुर में उम्र गुज़ार दोगे,
और वह तुम्हे बिन बताये सफ़र पूरा कर लेगा।

तुम चलो मेरे साथ,
आज तुम्हे मुक़ाम से भी मिलवा दूँगा,
वहाँ तुम्हारी दोस्ती भी हो जाएगी,
फिर वक़्त भी वहीँ तुम्हे मिल जायेगा।

मैंने भी दिल से कहा,
आओ एक बाज़ी तो आज़मा ही लेते है।

#abhilekh

Sunday, 24 May 2015

मौसम का तकाज़ा // गूँज an anthology

मौसम का तकाज़ा...

वक़्त की चिलचिलाती गर्मी से,
जब कुछ एहसास मुरझाए..
मैंने सोचा क्यूँ न आज,
ख्यालों के फ्रिज को शुरू किया जाए।

क्या पता, इसी बहाने..
कुछ ठंडी उम्मीदों से दिल बहल जाए।

जैसे ही दरवाज़ा खोल..
जज़्बातों की रौशनी चहक उठी।

देखा, उम्मीदों की टोकरी भरी पड़ी थी..
मैंने सोचा कुछ हल्का ही सही..
अभी सिर्फ़ एक टुकड़े को उठाया था..
की बाकियों ने कयास वाली शक्ल बना ली।

मुझे लगा शायद यह ज़्यादती हो जाएगी..
इसलिए वापस रख दिया।

बस यादों से भरी एक बोतल ली..
दरवाज़ा बंद किया और वापस कुर्सी पर आ गया।

गटागट उतार ली थी पूरी बोतल ज़हन में..
पूरी बोतल खाली होने के बाद एक पल में ऐसा लगा..
जैसे कितनी ज़िन्दगी जी ली है मैंने,
और...
आगे अभी और कितनी ज़िन्दगी है।।

#abhilekh

Thursday, 14 May 2015

नयी जड़ें // गूँज an anthology

नयी जड़ें...

खोखले उसूलों से पनपी है,
कुछ आदर्श की नयी पत्तियाँ..
सूखे शाखों सी शख्सियत को,
फ़िर भी ख़ुद पर गुमान है।

वक़्त की बारिश में भीगने के बावजूद,
संकृड़ता की हवा में झूमते है..
कुछ ऐसे ही झुरमुट है इनके आस-पास,
इनको इसी बाग़ पर गुमान है।

ज़मीं के नीचे तो हकीक़त की ही जड़ें थी,
लेकिन उम्र और बदलते वक़्त के साथ,
दकियानूसी सोच ने अपने को फैला लिया है।

अब इसे उखाड़ें तो जड़ों का अफ़सोस होगा,
इसलिए पहले जड़ों की नुमाइश लगाते है,
तब नए सृजन का बखूबी संचार होगा।।

#abhilekh

Wednesday, 6 May 2015

दुआ // गूँज an anthology

दुआ...

बहुत कम सी लगती है ज़िन्दगी..
जब गुज़रे पलों के बारे में सोचता हूँ।

काश, यह दिन जितने महीने भी होते..
अक्सर तारीखों को देख सोचता हूँ।

हर रोज़ ज़िन्दगी अपने तेवर बदलती है..
और ज़िन्दगी को मैं अपने अंदाज़ से जीता हूँ।

12 घंटों का वक़्त जब दुबारा होकर 24 है..
फ़िर मैं ज़िन्दगी को दुबारा क्यूँ नही जी सकता हूँ।

सुबह का एक दिन और अगले दिन की रात हो..
एक ऐसी दुनिया के बारे में सोचा करता हूँ।

सूरज की रौशनी से रात और चाँद का दिन हो..
एक ऐसे मौसम की कल्पना करता रहता हूँ।

बुतों के बीच की ज़िन्दगी को जी लिया मैंने..
अब एक ज़िन्दगी ख़ुदा के रूबरू होने की दुआ करता हूँ।।

#abhilekh

Sunday, 26 April 2015

दुआ का बाज़ार // गूँज an anthology

दुआ का बाज़ार...

बज़्म-ए-दुआ का मंज़र कल देखा मैंने,
फटी चादर में लिपटी अमीरी देखा मैंने।

मैंने सोचा चंद सिक्कें उछाल दूँ लेकिन,
ग़ुरबत-ए-हुजूम का बाज़ार देखा मैंने।

सोचा सजदे से पहले इनकी दुआ बटोरूँ,
लेकिन दुआओं पर दाम लगे देखा मैंने।

रेवड़ियों की एक थैली मैंने सामने रख दी,
उन टुकड़ों को बेईज्ज़त होते देखा मैंने।

दुआ पढ़कर जब निकला ख़ुदा के घर से,
मायूसी के लिबास में लालच देखा मैंने।

इस बार बेशर्म सिक्कों को उछाल दिया,
फ़िर सतरंगी दुआओं का नज़ारा देखा मैंने।।

#abhilekh


For more poetries you can order this book through this link:

www.infibeam.com/Books/goonj-hindi-anju-chaudhary/9789384419127.html#variantId=P-M-B-9789384419127

Tuesday, 21 April 2015

यह ज़िन्दगी...। // गूँज an anthology

यह ज़िन्दगी...

कोशिश की सीढ़ियों पर,
जब ख़्वाहिशें चढ़ती है..
उम्मीदों के मुंडेर तक पहुचने के लिए,
एक जोश रहता है..
एक चाह होती है।
जैसे, शायद असमानों को छूने का,
या बुलंदियों पर होने का..
या दूरियों को जीने का..
या फिर फ़लक से ज़मीं का नज़ारा देखने का।
लेकिन इन्हें चिलचिलाती संघर्षों से परहेज़ होता है..
क्यूँकी गुनगुनी मेहनत ज़्यादा मज़ा देती है।
....और जब उतर कर आओ,
हकीक़त की ज़मीं पर,
फ़िर ख़्वाहिशों का मजमा समझ में आता है।
कैसी है न यह ज़िन्दगी...
अनिश्चित, बेपरवाह खुद..
और इलज़ाम आदतों के सर पर थोप जाती है।

#abhilekh

You can buy this book through below link:

www.infibeam.com/Books/goonj-hindi-anju-chaudhary/9789384419127.html#variantId=P-M-B-9789384419127

Wednesday, 15 April 2015

पैसों की घुटन // गूँज an anthology

पैसों की घुटन।

धम्म से गिरा एक सिक्का दानपेटी में,
और अन्य सिक्कों को उसकी मौजूदगी खल गयी।
नया मुर्गा, नयी मन्नत, नया क़ैदी,
कुछ ऐसी खुसर-फुसर आपस में शुरू हो गयी।
बाहर मंदिर का घंटा फिर ज़ोर से बजा,
सिक्कों की खीज में पुरानी सी नोट भी पिस गयी।
कहने लगे क्या इंसान है यार,
पहले अहिंसा का पाठ पढ़ाते है..
और अहिंसा के ठेकेदार को हम पर छापकर,
हमें हिंसा की वजह बताते है।
अब तो ठेंगा भी बना दिया गया है,
फ़िर भी बाझ नहीं आते है।
1 रुपए में 1लाख ख़्वाहिशें,
रोज़ गिनवा के चले जाते है।
1 घंटी की झंकार में भगवान को भी,
एहसान जता कर चले जाते है।
आते है मंदिर लेकिन चप्पल की चिंता..
और मोबाइल की घंटियों से मंत्र पढ़ जाते है।
आज जो हम लोग यहाँ बहक जाएँ,
तो पुजारी की शामत भी खनक जाएगी।
लेकिन कमबख्त़ फ़िर यहाँ,
लूट-खसूट और धर्म की महाभारत छिड़ जाएगी।
चलो छोड़ो, अब हमसे ही इनकी औक़ात है..
वरना आज क्या इंसान और क्या इनकी जात है।।

#Abhilekh

To buy this book you can go through the link:

www.infibeam.com/Books/goonj-hindi-anju-chaudhary/9789384419127.html#variantId=P-M-B-9789384419127

About Me

My photo
India
Complicated माहौल में simple सा बंदा हूँ। दूरियाँ तो जायज़ है फिर भी ऐसे हमेशा करीब हूँ। कुछ लिख कर, कुछ पढ़कर, सबसे कुछ सीख कर, अकेला ही सही, एक मंज़िल के लिए निकला हूँ।